A Multi Disciplinary Approach To Vaastu Energy

करियर में तरक्क़ी के लिए के लिए वास्तु टिप्स

नौकरी पाने के लिए खास वास्तु टिप्स

हर व्यक्ति के जीवन में करियर का महत्व बहुत एहमियत रखता है और हर कोई यही चाहता है कि वो जो भी काम करें उसमें उसे सफलता हासिल हो। लेकिन कई बार कडी मेहनत करने के बाद भी सफलता छू कर हाथ से निकल जाती है और हमें मनचाहा फल नहीं मिलता। ऎसे में वास्तुशास्त्र की मदद से आप अपने करियर में सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। यहां कुछ वास्तु उपाय है जो करियर में मददगार साबित हो सकते हैं -

कई युवा अपनी मेहनत से अच्छी नौकरी हासिल तो कर लेते हैं, लेकिन एक समय के बाद उसमें स्थायित्व आ जाता है। कॅरियर ग्रोथ रूक जाती है। इसका कारण आपके दफ्तर में या आप जिस जगह बैठते हैं वहां वास्तुदोष हो सकता है।

* वास्तु शास्त्र के अनुसार पृथ्वी का चुंबकीय उत्तर क्षेत्र कुबेर का स्थान बताया गया है, जो धनागमन या धन की वृद्धि के लिए शुभ होता है।

* इस क्षेत्र में किया गया कोई भी कारोबार, चाहे वह व्यापारिक बैठकें हों, पैसे या आवश्यक दस्तावेज़ के लेन-देन का काम हो या फिर किसी तरह का बड़ा सौदा तय करना हो, तो उत्तर की ओर मुख रखने पर काफ़ी लाभ मिलता है और प्रोफेशन में आशानुरूप सफलता मिलती है।

* इसके पीछे वास्तु के दिए गए वैज्ञानिक कारण के अनुसार उत्तर की ओर सक्रिय चुंबकीय तरंगें मस्तिष्क की कोशिकाओं को सक्रिय बना देती हैं और इस दिशा में प्रवाहित होनेवाली शुद्ध वायु से पर्याप्त ऑक्सीजन मिलता है। इनसे मस्तिष्क की सक्रियता और याद्दाश्त बढ़ जाती है।

* यही बातें आंतरिक शक्ति की तरह व्यापारिक उन्नति और कार्यों को सफल बनाने में मदद करती हैं।

* कारोबारियों या ऑफिस में काम करने वालों को चाहिए कि वे अपना ज़्यादातर काम उत्तर की ओर मुख करके ही करें।

* अगर कैश बॉक्स और दूसरे महत्वपूर्ण काग़ज़ात या चेक बुक आदि अपने दाहिने ओर रखें, तो यह उनकी कार्य क्षमता को बढ़ा देता है।

करियर में तरक्क़ी के लिए के लिए वास्तु टिप्स -

1. ऑफिस में आपके बैठने की जगह के पीछे की दीवार यदि आपके काफ़ी क़रीब है, आपकी पीठ और दीवार के बीच जगह नाममात्र की है, तो इससे आपको एक सकारात्मकता या अदृश्य समर्थन का एहसास होगा।

2. आप जहां बैठते हों, उसके पीछे की दीवार पर पहाड़ों के दृश्य वाले पोस्टर लगाएं। इनसे दीवार से मिलने वाला अदृश्य समर्थन और अधिक प्रभावशाली हो जाएगा।

3. ऑफिस में आपके सामने की खुली जगह का अर्थ आगे बढ़ने, नए विचार बनने और खुलेपन के एहसास से है। इस कारण आपके बैठने की जगह के सामने का स्थान खुला-खुला होना चाहिए।

4. किसी कॉन्फ्रेंस रूम में हो रही मीटिंग के दौरान आपको दक्षिण-पश्‍चिम दिशा की ओर बैठना चाहिए तथा आपकी सीट रूम के प्रवेश द्वार से दूर होनी चाहिए।

5. ऑफिस में इस्तेमाल किए जानेवाले फर्नीचर रेक्टेंगल या चौकोराकार (स्न्वेयर) के होने चाहिए। यदि ये स्न्वेयर हों, तो और भी अच्छा है। ये फर्नीचर लकड़ी के हों, तो और भी बेहतर परिणाम मिल सकता है।

6. यदि आपका ऑफिस पूर्व में है, तो ग्लास टॉप टेबल का उपयोग करना अच्छा होगा।

7. ध्यान रहे कि आपके बैठने की कुर्सी के पीछे की ऊंचाई अधिक हो, जिससे आप अपनी पीठ अच्छी तरह टिका सकें। यह प्रतीकात्मक सहयोग के साथ-साथ स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से भी अच्छा होगा।

8. यदि आपके ऑफिस में अनुपयुक्त या टूटे हुए फर्नीचर हैं, तो इन्हें तुरंत बदल दें या इनकी तुरंत मरम्मत करवा लें।

9. यदि ऑफिस में किसी भी तरह के पानी का लीकेज हो, जैसे- रखे गए पानी के जार में लीकेज या बेसिन के नल से बूंदें टपकती रहती हों, तो इसे तुरंत ठीक करवा लें, क्योंकि पानी का रिसाव धनहानि को दर्शाता है।

10. बिज़नेस के दौरान की जानेवाली सभी गतिविधियां पूर्व या उत्तर दिशा की ओर की जानी चाहिए। धन की प्राप्ति के लिए उत्तर दिशा काफ़ी अच्छी और उपयुक्त है।

11. अपने कार्यालय या दुकान के दक्षिण-पूर्व दिशा में कारोबार या कामकाज के सहयोग के लिए कमरे में रखे जाने वाले पौधे गमले में लगाकर रखें। ये नकारात्मक ऊर्जा को अवशोषित कर आपको तरोताज़ा बनाए रखेंगे।

12. आप अपने ऑफिस में दक्षिण-पूर्व में लैंप रख सकते हैं। काम के दौरान लैंप को जलाकर रखने से सकारात्मक ऊर्जा की अनुभूति होगी। साथ ही धन लाभ भी होगा।

13. ऑफिस की पूर्व दिशा में ताज़ा फूलों को जगह दें। गुलदस्ते में लगे रंग-बिरंगे फूल आपकी मन:स्थिति को संतुलित और प्रफुल्लित बनाए रखेंगे।

14. इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स, जैसे- कंप्यूटर, दूसरी मशीनें, हीटर, एयर कंडिशनर, प्रिंटर, फोटोकॉपी की मशीन आदि ऑफिस में होते ही हैं, लेकिन उनसे निकलने वाली गर्मी और आवाज़ों को नियंत्रित करना आवश्यक है। आप वास्तु के ज़रिए ऐसा कर सकते हैं। कोशिश  करें कि इन्हें दक्षिण-पूर्व दिशा में रखा जाए।

15. अपनी योग्यता, कार्यशैली या फिर प्रोफेशन के अनुरूप वास्तु के उपायों को अपनाएं। इसके अनुसार यदि आप एक कलाकार, विद्यार्थी, लेखक, कारोबारी या फिर राजनेता हैं, तो अपना कमरा इसके अनुरूप बनाए रखें, ताकि कार्य के प्रति सहजता का एहसास कर सकें।

16. यदि आप किसी कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं या आपका अपना कारोबार है, तो अपने दफ़्तर का कमरा दक्षिण-पूर्व की ओर रखें। उसमें बैठते समय आपका चेहरा उत्तर की ओर होना चाहिए।

17. ऑफिस के उत्तर-पूर्व हिस्से को हमेशा साफ़-सुथरा बनाए रखें। कोशिश करें कि इस क्षेत्र में किसी भी तरह के अनावश्यक सामान न हों और इसमें हमेशा खुलेपन का एहसास हो। इसी तरह से कमरे के बीच का स्थान खुला होना चाहिए, ताकि आराम से आवाजाही हो सके।

18. यदि आप निर्माण संबंधी कार्य करते हैं, तो उत्पादन की नियमितता बनाए रखने के लिए इस कार्य का क्षेत्र दक्षिण-पश्‍चिम में बनाया जाना चाहिए।

19. दफ़्तर की खिड़कियां और दरवाज़े हमेशा साफ़ और चमकते रहने चाहिए।

20. ऑफिस के कमरे में या टेबल के पूर्वोत्तर में पानी के फव्वारे का भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

21. कार्यालय के केबिन में वास्तु शास्त्र के अनुरूप लगाया गया दर्पण भी पैसे के आगमन में वॄिद्ध कर सकता है या फिर आपके करियर को चमका सकता है।

22. ऑफिस की पैंट्री दक्षिण-पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा में होनी चाहिए।

.23. क़ानूनी कार्य के लिए पूर्व या पश्‍चिम का भाग उपयुक्त होता है।

24. ऑफिस के अकाउंट विभाग को उत्तर दिशा में बनाया जाना चाहिए। इसी तरह कैशियर को भी इसी हिस्से में बैठाया जाना चाहिए।

25. शोरूम या दुकान का कैश बॉक्स हमेशा दक्षिण और पश्‍चिम की दीवार के सहारे होना उपयुक्त होता है।

26. दुकान में बिक्री के सामानों को रखने के लिए शेल्फ, आलमारियां, शोकेस और कैश काउंटर दक्षिण दिशा में होने चाहिए।

27. दुकान के ईशान कोण अर्थात उत्तर-पूर्व दिशा में मंदिर या इष्टदेव की तस्वीर लगाएं। इसके अतिरिक्त दूसरे हिस्से में पीने का पानी रखें।

28. वास्तु शास्त्र के अनुसार कार्यालय या कार्यस्थल या फिर दुकान आदि में लगाए जाने वाले बिजली या संचार साधनों के उपकरणों के स्विच बोर्ड दक्षिण-पूर्व हिस्से में लगाया जाना चाहिए।

करियर, ऑफिस के कामकाज या फिर व्यक्तिगत पेशे में सहजता और गतिशीलता बनाए रखने के लिए निम्नलिखित कार्य न करें, ये वास्तु शास्त्र के नियमों का उल्लंघन करते हैं -

– बीम के नीचे कभी न बैठें. अपना साधारण से साधारण काम भी इससे अलग होकर निपटाएं।

– कार्यालय या कार्यस्थल के प्रवेश द्वार की ओर अपनी पीठ रखते हुए बैठने से बचें।

– अपने बैठने के स्थान के पीछे बहते पानी के दृश्योंवाली तस्वीरें कभी न लगाएं। इससे आपको समर्थन में कमी का एहसास होगा और काम के दौरान बहुत जल्द नकारात्मकता का एहसास होने लगेगा।

– अपने पैरों को क्रॉस करते हुए कभी न बैठें।

– ऑफिस के कमरे में गोलाकार, अंडाकार या अनियमित आकार के फर्नीचर का उपयोग करने से बचें।

– जिन जगहों का इस्तेमाल कम होता हो या जहां नकारात्मकता का एहसास हो, उस जगह अपने ज़रूरी काम न करें।

– ऑफिस में भीड़भाड़ वाली जगह पर काम करने से बचें। ऑफिस में किसी भी तरह के शोर या मशीनी आवाज़ों से बचें।

– धातु या प्लास्टिक के फर्नीचर का इस्तेमाल कम से कम करें। इसी तरह से जो भी फर्नीचर उपयोग में लाया जा रहा हो, उनमें नुकीलापन व तेज़ धार नहीं होनी चाहिए।

– ऑफिस की दीवारों पर या अपने डेस्क पर नकारात्मक या मन को अवसाद, उत्तेजना, आक्रोश से भर देनेवाली तस्वीरें न लगाएं।

– ऑफिस में अंधेरा नहीं होना चाहिए। पर्याप्त रोशनी का होना आवश्यक है।

– यदि कोई अपने घर से ही ऑफिस चलाता हो, तो ऑफिस का स्थान मुख्य शयनकक्ष से सटा हुआ नहीं होना चाहिए।

– ऑफिस के लिए पानी संबंधी इंतज़ाम दक्षिण दिशा में नहीं करना चाहिए, इससे कामकाज को नुक़सान पहुंच सकता है।

हम नौकरी से जुड़े कुछ वास्तु टिप्स बता रहें हैं जो आपको मनचाही नौकरी दिलाने में मदद कर सकती है। यदि आप रोजगार की तलाश में हैं तो इन पांच आसान तरीकों को अपनाकर अच्छी जॉब पा सकते हैं -

  • आप जब भी नौकरी के लिए इंटरव्यू देने जाएं तो अपनी जेब में लाल रंग का रूमाल या कोई लाल कपड़ा रखें। अगर संभव हो तो शर्ट भी लाल पहनें। आप जितना अधिक लाल रंग का प्रयोग कर सकते हैं, करें। लेकिन यह याद रखें कि लाल रंग भड़कीला ना हो, सौम्य लगे।
  • रात में सोते समय बेडरूम में पीले रंग का प्रयोग करें। याद रखें, लाल, पीला व सुनहरा रंग आपके भाग्य में वृद्धि लाता है, इसलिए हमेशा इसे अपने साथ रखें और इन रंगों का व्यवहार ज्यादा से ज्यादा करें, सफलता मिलेगी।
  • उत्तर दिशा की दीवार पर बड़ा सा आइना रखें जिसमें आपका पूरा शरीर दिख सके। इस दिशा में आईना रखने से आपको बेहतर अवसर मिलने के चांस बढ़ जाएंगे और इंटरव्यू में भी सकारात्मक नतीजे मिल सकते हैं।
  • घर से के लिए इंटरव्यू बाहर निकलते समय अपना दायां पैर पहले बाहर रखें इसे शुभ माना जाता है, साथ ही घर से निकलने से पहले भगवान गणेश की पूजा करें किसी भी शुभ कार्य से पहले गणेश जी की पूजा करने से सकारात्मक परिणाम मिलता है साथ ही उन्हें सुपारी चढ़ाएं और प्रसाद के तौर पर इसे ग्रहण करें।
  • इंटरव्यू लेने वाले के सामने सहम कर या अपना हाथ-पैर मोड़कर नहीं बैठना चाहिए। पूरे आत्मविश्वास के साथ बैठें और घबराएं नहीं।

क्या करना चाहिए

* आपके दफ्तर में केबिन या जहां आप बैठते हैं उसके पीछे की दीवार एक तरह से सपोर्ट का काम करती है। इस दीवार को कभी खाली न रखें। इस पर पहाड़ों का वॉल पेपर लगाएं।

* आपकी कुर्सी के सामने और आसपास खुली जगह होना चाहिए। यह खुले दिमाग का प्रतीक है। दिमाग खुला रहेगा तो नए आइडिया आएंगे और आप दफ्तर में अपने समकक्षों से तेजी से आगे बढ़ेंगे।

* कांफ्रेंस रूम में कोशिश करें कि आप दक्षिण-पश्चिम दिशा में या टेबल की दक्षिण-पश्चिम दिशा में बैठें। यह भी ध्यान रखें कि कांफ्रेंस रूम में एकदम प्रवेश द्वार के समीप न बैठें।

* आपके केबिन में रखी टेबल वर्गाकार या आयताकार होना चाहिए। गोल किनारों वाली टेबल नहीं होना चाहिए।

फर्नीचर लकड़ी का होना सबसे बेहतर

* फर्नीचर लकड़ी का होना सबसे बेहतर होता है। यदि आपका केबिन ऑफिस की पश्चिमी दिशा में है तो टेबल का टॉप ग्लास का होना चाहिए। यदि केबिन का कोई भी फर्नीचर टूटा हुआ है तो उसे तुरंत रिपेयर करवाएं या बदल दें।

* घर का फर्नीचर भी एकदम सही हालत में होना चाहिए। वास्तु के अनुसार फर्नीचर की टूट-फूट का भी बुरा असर हमारे जीवन पर होता है।

FOR VASTU TIPS IN HINDI - CLICK HERE

Er. Rameshwar Prasad invites you to the Wonderful World of Vastu Shastra

Engineer Rameshwar Prasad

(B.Tech., M.Tech., P.G.D.C.A., P.G.D.M.)

Vaastu International

Style Switcher

Predifined Colors


Layout Mode

Patterns